अवसान: सौमित्र चटर्जी के निधन के 4 महीने बाद उनकी पत्नी दीपा भी चल बसीं, पति के गुजरने के बाद फैमिली से कहती थीं- मुझे जाने दो

22

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

दिग्गज बंगाली फिल्म अभिनेता सौमित्र चटर्जी के निधन के 4 महीने बाद उनकी पत्नी दीपा चटर्जी का भी निधन हो गया है। वे 83 साल की थीं। रविवार दोपहर करीब 2.55 बजे कोलकाता के साल्ट लेक हॉस्पिटल में उन्होंने अंतिम सांस ली। दीपा और सौमित्र की बेटी पॉलोमी बोस ने एक बयान में यह जानकारी साझा की। उन्होंने कहा, “नवंबर में बापी (सौमित्र) हमें छोड़कर गए और अब मां भी हमें छोड़ गईं। वे हमेशा हमसे कहती थीं कि मुझे जाने दो।”

दीपा को 45 साल से डायबिटीज थी

दीपा पिछले 45 साल से डायबिटीज से जूझ रही थीं। इसके अलावा उन्हें ब्लड संबंधी बीमारी भी थी, जिसका इलाज चल रहा था। कुछ समय पहले उन्हें किडनी की प्रॉब्लम के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी फैमिली ने मीडिया को दिए बयान में इस बात की पुष्टि की है।

85 की उम्र हुआ था सौमित्र का निधन

15 नवंबर 2020 को 85 साल की उम्र में सौमित्र चटर्जी का कोलकाता के एक अस्पताल में निधन हो गया। अक्टूबर 2020 में वे कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे, जिससे वे रिकवर भी हो गए थे। लेकिन एक महीने तक अस्पताल में भर्ती रहने के बाद भी घर नहीं पहुंच सके। चटर्जी ने सितंबर के आखिरी हफ्ते में ही एक सीरीज की शूटिंग पूरी की थी। वे परमब्रत चट्टोपाध्याय की फिल्म ‘अभिज्ञान’ की शूटिंग भी कर रहे थे। इसके अलावा वह अपनी बायोपिक और डॉक्युमेंट्री पर भी काम कर रहे थे।

सत्यजीत रे के साथ कोलेबोरेशन पॉपुलर रहा

सौमित्र को खासकर ऑस्कर विनिंग डायरेक्टर सत्यजीत रे के साथ कोलेबोरेशन के लिए जाना जाता है। दोनों ने साथ में 14 फिल्मों में काम किया था। ये बांग्ला फिल्में हैं – ‘अपुर संसार’, ‘देवी’, ‘तीन कन्या’, ‘अभिजन’, ‘चारुलता’, ‘कुपुरुष’, ‘अरंयेर दिन रात्रि’, ‘अशनी संकेत’, ‘सोनार केला’, ‘जोय बाबा फेलुनाथ’, ‘हीरक राजार देशे’, ‘घरे बैरे’, ‘गणशत्रु’ और ‘शाखा प्रोशाखा’।

चटर्जी ने अपने करियर में करीब 100 फिल्मों में काम किया है, जिनमें दो हिंदी फिल्में ‘निरुपमा’ और ‘हिंदुस्तानी सिपाही’ भी शामिल हैं। उन्होंने हिंदी में ‘स्त्री का पत्र’ नाम से फिल्म डायरेक्ट भी की है। उन्हें 2012 में एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का सबसे बड़ा सम्मान दादा साहब फाल्के अवॉर्ड मिला था। वे तीन बार नेशनल फिल्म अवॉर्ड से नवाजे गए थे और 2004 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया।

खबरें और भी हैं…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here